पंचांग और मुहूर्त, दिसंबर 31, 2020, बृहस्पतिवार

Panchang 31 December 2020, Shubh Muhurat 31 December 2020, Auspicious Time, Yog, Nakshtra, Rahu Kaal, Festivals

हिन्दू पंचांग के अनुसार शुभ मुहूर्त और पंचांग : तारीख – दिसंबर 31, 2020, दिन – बृहस्पतिवार, हिंदी महीना – पौष,  पक्ष –  कृष्ण है | जानिए हिंदी पंचांग के अनुसार December 31 का  शुभ-अशुभ समय, मुहूर्त और राहुकाल , आज का पर्व त्यौहार और शुभ योग शुभ कार्य करने  के लिए।

पञ्चाङ्ग दिसंबर 31, 2020

आज का पंचांग में तिथि, पक्ष, हिंदी महीने का माह, नक्षत्र भी देखना जरुरी होता है।  क्योंकि हर एक शुभ कार्य के लिए अलग अलग नक्षत्र होता है। इसलिए नक्षत्र का ध्यान रखना बहुत जरुरी है। सूर्योदय सूर्यास्त से आप उस तिथि के बारे में जानते है की सूर्य उदय उस तिथि को कब होगा  और सूर्यास्त का समय क्या है।

तिथि प्रतिपदा 09:30 AM तक उसके बाद द्वितीया पक्ष कृष्ण पक्ष
माह पौष नक्षत्र पुनर्वसु 07:49 PM तक उसके बाद पुष्य
सूर्योदय  06:43 AM सूर्यास्त  05:19 PM
चंद्रोदय  06:26 PM चन्द्रास्त  07:40 AM

 

31 दिसंबर 2020 का शुभ मुहूर्त शुभ योग के अनुसार

अगर इस तिथि को कोई भी योग हो इसमें आप शुभ कार्य कर सकते हैं।  ये शुभ होता है। जैसे सर्वार्थसिद्धि, अमृतसिद्धि, गुरुपुष्यामृत और रविपुष्यामृत योग। जब किसी कार्य को करना हो और मुहूर्त उस समय नहीं हो तो इन विशेष योग या महूर्त में शुभ कार्य किया जाता है। जैसे  गृह प्रवेश, गृह निर्माण, किसी वस्तु की खरीद विक्री जैसे वाहन खरीदना, सोना चांदी, आप इस दिन शुभ कार्य कर सकते हैं।

अभिजीत मुहूर्त 11:40 AM से 12:22 PM सर्वार्थ सिध्दि योग पूरे दिन
अमृत काल  05:20 PM से 06:59 PM रवि योग कोई नहीं है

 

31 दिसंबर 2020 का शुभ मुहूर्त और समय

हर एक तिथि में शुभ समय होता है। जब भी कोई शुभ कार्य करना हो तो आप शुभ समय में ही शुरू करें।  ये आपके लिए खुशियां लेकर आएगा और आपका कार्य शुभ होगा।

अभिजीत मुहूर्त 11:40 AM से 12:22 PM
प्रातः सन्ध्या
05:23 AM, Jan 01 से 06:44 AM, Jan 01
विजय मुहूर्त 01:47 PM से 02:29 PM सायाह्न सन्ध्या 05:19 PM से 06:39 PM
ब्रह्म मुहूर्त 04:56 AM, Jan 01 से 05:50 AM, Jan 01 गोधूलि मुहूर्त 05:08 PM से 05:32 PM
अमृत काल मुहूर्त 05:20 PM से 06:59 PM
निशिता मुहूर्त
11:35 PM से 12:28 AM, Jan 01

 

31 दिसंबर 2020 का अशुभ मुहूर्त और समय

आप हमेशा राहु काल को छोड़कर ही कोई शुभ कार्य करें। राहु काल का ध्यान रखना बहुत जरुरी होता है। और भी अशुभ समय होता है। जिसका वर्णन निचे है।

दुष्टमुहूर्त 10:15:23 से 10:57:45 तक, 14:29:34 से 15:11:56 तक कालवेला / अर्द्धयाम 15:54:18 से 16:36:40 तक
कुलिक 10:15:23 से 10:57:45 तक यमघण्ट 07:25:55 से 08:08:17 तक
कंटक 14:29:34 से 15:11:56 तक यमगण्ड 06:43:33 से 08:02:59 तक
राहुकाल 13:20:43 से 14:40:09 तक गुलिक काल 09:22:25 से 10:41:51 तक

 

आज का व्रत / पर्व त्यौहार दिसंबर 31, 2020  हिंदू पंचांग और कैलेंडर के अनुसार

पौष प्रारम्भ

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.